तत्क्षेत्रं  यच्च याद्रुक्व याद्विकारि यतशव यत्         

स च यत्प्रभावश्व तत्समासेन मे श्रुणु

Advertisements