हाँ मंदमंद शांतशांत
ुोोूगात गित सांज वारा
गमध रातराणिचा न्यारा
करि धुंद आसमंत सारा
—–क्रुष्णणकुमार

Advertisements